10/12/15

पहला कदम ही इसान को आखिरी कदम तक लेकर जाता है

अपने समय के महान वैज्ञानिक थॉमस बहुत ही मेहनती इंसान थे।बचपन में उन्हें यह कहकर स्कूल से निकाल दिया गया कि वह मंद बुद्धि बालक है। उसी थॉमस एडिसन ने कई महत्वपूर्ण आविष्कार किए जिसमें से बिजली का बल्ब प्रमुख है।उन्होंने बल्ब का आविष्कार करने के लिए हजारों बार प्रयोग किए थे।तब जाकर उन्हें सफलता मिली थी।एक बार जब वह बल्ब बनाने के लिए कोई प्रयोग कर रहे थे। तभी एक व्यक्ति ने उनसे पूछा आपने करीब एक हजार प्रयोग किए,लेकिन आपके सारे प्रयोग असफल रहे। साथ ही, आपकी मेहनत बेकार हो गई

एडिसन ने कहा मैं सोचता हूं कि मेरे एक हजार प्रयोग असफल हुए है। मेरी मेह। क्या आपको दुःख नहीं होता है।नत बेकार नहीं गई, क्योंकि मैंने एक हजार प्रयोग करके यह पता लगाया है कि इन एक हजार तरीकों से बल्ब नहीं बनाया जा सकता।
मेरा हर प्रयोग, बल्ब बनाने की प्रक्रिया का हिस्सा है और मैं अपनी हर कोशिश के साथ एक कदम आगे बढ़ता हूं। कोई भी सामान्य व्यक्ति होता तो वह जल्द ही हार मान लेता, लेकिन थॉमस एडिसन ने अपने प्रयास जारी रखे और हार नहीं मानी। आखिरकार एडिसन की मेहनत रंग लाई और उन्होंने बल्ब का आविष्कार करके पूरी दुनिया को रोशन कर दिया। यह थॉमस एडिसन का विश्वास ही था जिसने आशा की किरण को बुझने नहीं दिया और पूरी दुनिया को बल्ब देकर रोशन कर दिया।

सीख: 1. किसी दिशा में बढ़ाया गया पहला कदम ही इसान को सफलता तक ले जाता है।

2. असफलता से न डरने वाले को ही सफलता मिलती है।


source - bhasker

No comments:

Post a Comment

M1